सीतादेवी इन्स्टीट्यूट ऑफ होमेयोपैथिक फार्मेसी

यू.पी.डी.एच.पी. सयुक्त प्रवेश परीक्षा 2020-21

उ ० प्र ० सरकार एवं होम्योपैथिक मेडिसिन बोर्ड उ ० प्र ० द्वारा मान्यता प्राप्त

डिप्लोमा इन होमियोपैथी फार्मेसी प्रशिक्षण हेतु आवेदन पत्र

------- आवेदन-पत्र भरने का तरीका -------

आवेदन-पत्र ICR पैटर्न का है ‘‘कृपया बहुत सावधानी पूर्वक भरें’’

आवेदन-पत्र की जाँच की प्रक्रिया क्योंकि ICR (इंटेलीजेन्ट कैरेक्टर रीडर) कम्प्यूटर द्वारा होगी अतः ICR भरते वक्त सभी वांछित सूचनाएँ त्रुटिहीन भरना आवश्यक है। आवेदन पत्र ICR पैटर्न का है। जैसा आप लिखेंगे वैसा ही कम्प्यूटर पढ़ेगा। उचित होगा कि आवेदन-पत्र की फोटो कापी करवाकर उसे प्रयोग के तौर पर भर लें। सन्तुष्ट होने के बाद स्वयं हस्तलिपि में मूल आवेदन पत्र भरें।

ICR शीट को सावधानीपूर्वक भरें, कटिंग या ओवर राइटिंग न करें। ICR शीट को न मोड़ें और न ही स्टैपल करें अन्यथा स्कैनिंग गलत होगी।

ICR शीट एक लिफाफे में दिया जा रहा है। पूर्ण भरे ICR को उसी लिफाफे में रखें। उस लिफाफे में कोई और दस्तावेज न रखें बाकी के दस्तावेज अलग से मूल लिफाफे में ICR लिफाफे के साथ रखें। जिसे आप उपरोक्त लिखित किसी भी संस्था में स्वयं जाकर जमा कर सकते हैं। कूरियर द्वारा भेजे जाने की स्थिति में केवल कूरियर से 15-sep-2020 को सायं 5.00 बजे तक सुनंदा इन्स्टीट्यूट आफ पैरामेडिकल साइंसेस राम नगर, बाराबंकी (उ०प्र०) के पते पर प्राप्त किए जायेंगे। 15-sep-2020 की सायं 5.00 बजे के बाद प्राप्त आवेदन पत्रों को स्वीकार नहीं किया जायेगा।

आवेदन-पत्र की फोटो कापी किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं होगी, ऐसे फार्म बिना पूर्व सूचना के निरस्त कर दिये जायेंगे।

अपूर्ण आवेदन-पत्र बिना किसी पूर्व सूचना के अस्वीकार कर दिया जायेगा और इस सम्बन्ध में कोई भी पत्र-व्यवहार नहीं किया जायेगा और न ही परीक्षा शुल्क ही वापस किया जायेगा।
गलत सूचना दिये जाने की स्थिति में अभ्यार्थी भ्यर्थी का आवेदन/प्रवेष किसी भी स्तर पर निरस्त कर दिया जायेगा। वैधानिक कार्यवाही भी की जा सकती है, जिसका न्यायिक/वादकारी क्षेत्र लखनऊ होगा। एक बार आवेदन-पत्र जमा करने के पश्चात आरक्षण श्रेणी में परिवर्तन सम्बन्धी कोई भी आवेदन स्वीकार नहीं किया जायेगा।

आवेदन-पत्र के प्रारूप के साथ यह विवरणिका देने का मुख्य उद्देश्य यह है कि अभ्यर्थियों को चयन/प्रशिक्षण प्रक्रिया सम्बन्धी समस्त जानकारी प्राप्त हो सके एवं भ्रान्तियों का निवारण हो सकें निर्देशित किया जाता है कि इस विवरणिका को फार्म भरने अथवा किसी भी भ्रम की स्थिति में बार-बार पढ़ लें अथवा भ्रम की स्थिति में उपरोक्त लिखित संस्था के फोन नं. पर पूर्ण जानकारी प्राप्त की जा सकती है।